अब तुम ही कहो

सरकार पुरानी है
उसकी वो ही कहानी है
ऑफिस में वजीर,
तो जनपथ रहती रानी है

वो चुपके से बयान देते हैं
लोग कहां ध्‍यान देते हैं
चंद पैसों के बदले में
गिरवी रख हिन्‍दुस्‍तान देते हैं

नहीं कृष्‍ण कोई यहां, तभी तो
आबरू ए द्रोपदी
सड़कों पर तार तार होती है
कोई सरेआम उतारे कपड़े
तो कोई कपड़े ओढ़ने को
किसी कोने में बैठी रोती है

शुक्र ए खुदा कि
एक सोई 'दामिनी' तो जागे कई हजार
वरना फाइलों में
दबी रहती है कई दामिनियों की पुकार

अब तुम ही कहो
कैसे कहूं हैप्‍पी न्‍यू ईयर मेरे यार।

Comments

Popular posts from this blog

हैप्पी अभिनंदन में इंदुपुरी गोस्वामी

कुछ मिले तो साँस और मिले...

महात्मा गांधी के एक श्लोक ''अहिंसा परमो धर्म'' ने देश नपुंसक बना दिया!

विद्या बालन की 'द डर्टी पिक्‍चर'

यदि ऐसा है तो गुजरात में अब की बार भी कमल ही खिलेगा!

'XXX' से घातक है 'PPP'

'प्रभु की रेल' से अच्छी है 'रविश की रेल'