कुछ मिले तो साँस और मिले...

मुश्‍किल टके हाथ आते हैं
कुछ हज़ार और थोड़े सैकड़े

क्‍या काफ़ी है ज़िंदगी ख़रीदने को
जो नपती है कौड़ियों में.

कौड़ियाँ भी इतनी नसीब नहीं,
कि मुट्ठी भर ज़रूरतें मोल ले सकूँ

कुछ उम्‍मीदें थीं ख्‍़वाब के मानिंद,
वो ख्‍़वाब तो बस सपने हुए.

कुछ मिले तो साँस और मिले
ख्‍़वाबों को हासिल हो तफ़सील.

अब मुश्‍किलों का सबब बन रही है गुज़र
क्‍या ख़बर आगे कटेगी या नहीं.

सिर्फ रात आँखों में कट रही है अभी,
सवेरा होने में कई पैसों की देर है.

(तफ़सील-विस्तार)

अहम बात : युवा सोच युवा खयालात की श्रेणी अतिथि कोना में प्रकाशित इस रचना के मूल लेखक श्री "कनिष्क चौहान" जी हैं।

Comments

  1. बहुत बढ़िया प्रस्तुति , चौहान साहब को भी बधाई इस रचना के लिए !

    ReplyDelete
  2. हमेशा की तरह दिल लुभा लिया... क्या कहूं इसे नज़्म लग रही है मुझे तो...
    जय हिंद...

    ReplyDelete
  3. वाकई अब कई सुबहों को कौड़ि‍यों का इंतजार है

    ReplyDelete
  4. behad khoobsoorat nazm.........har shabd dil ko chhoo gaya.

    ReplyDelete
  5. वाह भाई बहुत सुंदर प्रस्तुति..आभार

    ReplyDelete
  6. कौड़ियाँ भी इतनी नसीब नहीं,
    कि मुट्ठी भर ज़रूरतें मोल ले सकूँ

    -आभार कनिष्क जी की रचना पढ़वाने को!

    ReplyDelete
  7. अच्छी कविता, जो दिल के साथ-साथ दिमाग़ में भी जगह बनाती है।

    ReplyDelete
  8. इतनी सुंदर रचना पढवाने के लिये आभार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. वाह भाई बहुत सुंदर प्रस्तुति..आभार

    ReplyDelete

Post a Comment

हार्दिक निवेदन। अगर आपको लगता है कि इस पोस्‍ट को किसी और के साथ सांझा किया जा सकता है, तो आप यह कदम अवश्‍य उठाएं। मैं आपका सदैव ऋणि रहूंगा। बहुत बहुत आभार।

Popular posts from this blog

हैप्पी अभिनंदन में इंदुपुरी गोस्वामी

महात्मा गांधी के एक श्लोक ''अहिंसा परमो धर्म'' ने देश नपुंसक बना दिया!

विद्या बालन की 'द डर्टी पिक्‍चर'

यदि ऐसा है तो गुजरात में अब की बार भी कमल ही खिलेगा!

'XXX' से घातक है 'PPP'

'प्रभु की रेल' से अच्छी है 'रविश की रेल'