लफ्जों की धूल-4

(1)
जिन्दगी का जब, कर हिसाब किताब देखा
लड़ाई झगड़े के बिन, ना कुछ जनाब देखा

वो नहीं करते बात दंगे फसाद की,
झुलसता जिन्होंने दिल्ली पंजाब देखा।
कभी हिन्दु-मुस्लिम तो कभी
बिछड़ता सतलुज जेहलम चेनाब देखा।
अमन की गूँज हो हर तरफ
हैप्पी ने तो बस इतना सा ख्वाब देखा।

(2)
हाँ सचमुच, नहीं जमती उस रब्ब से मेरी
जिसके नाम से चलती हैं दुकानदारी तेरी

(3)
एक बड़ा सा फोटो करवा हट्टी में लगाया लिया,
सुना है, तूने रब्ब को ब्रांड एम्बेसडर बना लिया,

1.हट्टी-दुकान  

आभार
कुलवंत हैप्पी

Comments

  1. हैप्पी ने तो बस इतना सा ख्वाब देखा।
    jaroor pura hooga mere dost

    ReplyDelete
  2. are yaar badda pyara blog hai aapkaa aur kavitaa bhi....balle-balle.... mazaa aa gayaa sach yaar.....

    ReplyDelete
  3. ધન્યવાદ દોસ્તનાથ જી.. धन्यवाद दोस्तनाथ जी।

    ReplyDelete
  4. बहुत दिनों बाद इतनी बढ़िया कविता पड़ने को मिली.... गजब का लिखा है

    ReplyDelete
  5. जिन्दगी का जब, कर हिसाब किताब देखा
    लड़ाई झगड़े के बिन, ना कुछ जनाब देखा
    सटीक लिखे हो सरकार

    ReplyDelete
  6. कुलवंत जी बहुत सुंदर रचना पोस्ट की है।

    ReplyDelete
  7. अमन की गूँज हो हर तरफ
    कामना तो यही है पर --
    बेहतरीन

    ReplyDelete
  8. bahut sahi kahaa happy bhai aapne..


    lekin mera khvab thoda sansodhit hai

    ख्वाब अगर उँचा है फिर तो,
    कदम बढ़ा चलना होगा |
    और विश्व के मानचित्र को ,
    भारत मय करना होगा |

    सत्य अहिंसा के प्रतीक को,
    अब संशोधित करना होगा |
    गर आँख उठे हम पर कोई,
    उसे भाव शुन्य करना होगा |

    ReplyDelete
  9. स्वागत है आपके ख्वाब का भी। ख्वाब अच्छा है, ख्याल अच्छा है। दोनों को मिला दिया। मजा आ गया।

    ReplyDelete
  10. बहुत शानदार!

    ReplyDelete

Post a Comment

हार्दिक निवेदन। अगर आपको लगता है कि इस पोस्‍ट को किसी और के साथ सांझा किया जा सकता है, तो आप यह कदम अवश्‍य उठाएं। मैं आपका सदैव ऋणि रहूंगा। बहुत बहुत आभार।

Popular posts from this blog

हैप्पी अभिनंदन में इंदुपुरी गोस्वामी

कुछ मिले तो साँस और मिले...

महात्मा गांधी के एक श्लोक ''अहिंसा परमो धर्म'' ने देश नपुंसक बना दिया!

विद्या बालन की 'द डर्टी पिक्‍चर'

यदि ऐसा है तो गुजरात में अब की बार भी कमल ही खिलेगा!

'XXX' से घातक है 'PPP'

'प्रभु की रेल' से अच्छी है 'रविश की रेल'