लफ्जों की धूल-3

(1)
दिमाग बनिया, बाजार ढूँढता है
दिल आशिक, प्यार ढूँढता है

हैप्पी का पागलपन देखें
वो बंदों में परवरदिगार ढूँढता है

(2)
मैं तुम्हें प्यार करता हूँ,
कहकर बताया तो क्या बताया,
तू तू मैं मैं चलती रही,
खुद को गंवाया तो क्या गंवाया
टूटते ही कहा बेवफा
ऐसा इश्क कमाया तो क्या कमाया

(3)
जब आया था,
मैं रोया, जमाना मुस्कराया था
जब जाऊंगा, हँसता हुआ जाऊंगा
जाता हुआ खुशी के आँसू रुलाऊंगा
आभार
कुलवंत हैप्पी

Comments

  1. जब आया था,
    मैं रोया, जमाना मुस्कराया था
    जब जाऊंगा, हँसता हुआ जाऊंगा
    जाता हुआ खुशी के आँसू रुलाऊंगा
    बहुत बढिया .. प्रकृति के नियम भी अजीब हैं !!

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन!! वाह!

    ReplyDelete
  3. सुंदर ओर गहरे भाव लिये,

    ReplyDelete
  4. are vaah bhaayi....kyaa baat...kyaa baat...kyaa baat....!!

    ReplyDelete

Post a Comment

हार्दिक निवेदन। अगर आपको लगता है कि इस पोस्‍ट को किसी और के साथ सांझा किया जा सकता है, तो आप यह कदम अवश्‍य उठाएं। मैं आपका सदैव ऋणि रहूंगा। बहुत बहुत आभार।

Popular posts from this blog

हैप्पी अभिनंदन में इंदुपुरी गोस्वामी

कुछ मिले तो साँस और मिले...

महात्मा गांधी के एक श्लोक ''अहिंसा परमो धर्म'' ने देश नपुंसक बना दिया!

विद्या बालन की 'द डर्टी पिक्‍चर'

यदि ऐसा है तो गुजरात में अब की बार भी कमल ही खिलेगा!

'XXX' से घातक है 'PPP'

'प्रभु की रेल' से अच्छी है 'रविश की रेल'