शेयर-ओ-शायरी

आज ज्यादातर ब्लॉगरों के ब्लॉगों पर धर्म युद्ध चल रहा है। जिनको पढ़ने के बाद मन में कुछ शेयर उभरकर आए। जो आपकी नजर करने जा रहा हूं। वैसे उन ब्लॉगों पर भी छोड़ आया।

मेरा धर्म बड़ा और तेरा छोटा, जब तक कमबख्त बहस चलती रहेगी।
जलते रहेंगे मासूम परवाने, जब तक शमां नफरत की जलती रहेगी॥

धर्म के नाम पे तुम दुकानदारी यूं ही चलाते रहो।
दंगे फसादों में इंसां को पुतलों की तरह यूं जलाते रहो॥


Comments

  1. बढिया शेर हैं बधाई।

    ReplyDelete
  2. जहाँ धर्म बीच में आ गया वहाँ प्यार और भावनाएँ सब छिप जाती है..सुंदर भाव..धन्यवाद

    ReplyDelete

Post a Comment

हार्दिक निवेदन। अगर आपको लगता है कि इस पोस्‍ट को किसी और के साथ सांझा किया जा सकता है, तो आप यह कदम अवश्‍य उठाएं। मैं आपका सदैव ऋणि रहूंगा। बहुत बहुत आभार।

Popular posts from this blog

हैप्पी अभिनंदन में इंदुपुरी गोस्वामी

कुछ मिले तो साँस और मिले...

महात्मा गांधी के एक श्लोक ''अहिंसा परमो धर्म'' ने देश नपुंसक बना दिया!

विद्या बालन की 'द डर्टी पिक्‍चर'

यदि ऐसा है तो गुजरात में अब की बार भी कमल ही खिलेगा!

'XXX' से घातक है 'PPP'

'प्रभु की रेल' से अच्छी है 'रविश की रेल'