अब बंद होंगे याहू पब्‍लिक चैट रूम

साइबर कैफे में बैठकर याहू मैसेंजर के जरिए पब्‍लिक चैट करने वालों के लिए बेहद दुखद ख़बर है कि अब याहू पब्‍लिक चैट रूम बंद कर रहा है। 1998 में शुरू हुई याहू पब्लिक चैट सर्विस 2005 तक आते आते विवादों में घिरने लगी थी। इस दौरान याहू ने अपने कई पब्‍लिक चैट रूम बंद किए, ताकि विवादों से छुटकारा पाया जाए। मगर अभी अभी याहू ने अपने ब्‍लॉग में घोषणा की है कि वे पब्लिक चैट को स्थाई रूप से बंद कर रही है।

पब्‍लिक चैट रूम
यह ऐसे रूम हैं, जहां पर आप किसी भी अनजान व्‍यक्‍ति को चैट के लिए आमंत्रित कर सकते हो, अगर वो आप से बात करने का इच्‍छुक है तो आपको जवाब मिल जाएगा। मगर इन चैट रूमों का इस्‍तेमाल ज्‍यादातर अश्‍लील वेबसाइट संचालक करते हैं, जो चैट रूम में उल्‍लू जलूल नाम से घुस कर वहां उपस्‍थित युवाओं एवं युवतियों को अपना निशाना बनाते हैं। इतना ही नहीं, कुछ उम्रदाज महिलाएं एवं पुरुष अपना दिल बहलाने के लिए अज्ञात लोगों से मित्रता करती एवं करते हैं। इस चैट रूम की बजाय से काफी सारे लोग विदेश यात्रा तक भी कर चुके हैं, क्‍यूंकि चैट के दौरान इंडियन लड़के और लड़कियां विदेशी पार्टनर ढूंढते एवं ढूंढती हैं, अगर मिल गया तो विदेश जाना पक्‍का, भले ही उस पार जाते रिश्‍ते तार तार हो जाएं।

कब होंगे चैट रूम बंद
याहू कंपनी की ओर से आए ब्लॉग में लिखा गया है कि ये सेवा अब वेबसाइट के इस्तेमाल करने वालों के लिए पर्याप्त लाभ नहीं पहुंचा रही है। याहू चैट रुम 14 दिसंबर से गायब हो जाएंगे और इन्हीं से संबंधित कुछ अन्य फ़ीचर जनवरी के अंत तक हटा दिए जाएंगे।

पल में टूटता था संपर्क
इन चैट रूमों पर जैसे ही कोई व्‍यक्‍ति पहुंचता तो उसका स्‍वागत बहुत सारे मैसेजों से होता, हर कोई वहां पर लिंग, लोकेशन एवं उम्र पूछता, समलंगी होने पर शॉरी के साथ खत्‍म हो जाती थी चैट वार्ता। यह युवा पीढ़ी के लिए अच्‍छा नहीं था, मगर युवा पीढ़ी साइबर कैफों में ज्‍यादातर इसके लिए ही पहुंचती है।

Comments

Post a Comment

हार्दिक निवेदन। अगर आपको लगता है कि इस पोस्‍ट को किसी और के साथ सांझा किया जा सकता है, तो आप यह कदम अवश्‍य उठाएं। मैं आपका सदैव ऋणि रहूंगा। बहुत बहुत आभार।

Popular posts from this blog

हैप्पी अभिनंदन में इंदुपुरी गोस्वामी

कुछ मिले तो साँस और मिले...

महात्मा गांधी के एक श्लोक ''अहिंसा परमो धर्म'' ने देश नपुंसक बना दिया!

विद्या बालन की 'द डर्टी पिक्‍चर'

यदि ऐसा है तो गुजरात में अब की बार भी कमल ही खिलेगा!

'XXX' से घातक है 'PPP'

'प्रभु की रेल' से अच्छी है 'रविश की रेल'