सितार के जादूगर पंडित रविशंकर नहीं रहे

-:  वाईआरएन सर्विस :-

फेफड़ों के संक्रमण से जूझ रहे मशहूर सितार वादक पंडित रविशंकर का अमरीका में निधन हो गया है। वो इस समय 92 वर्ष के थे।

भारत रत्‍न समेत विश्‍व के कई स्‍थापित पुरस्‍कारों से सम्‍मानित पंडित रविशंकर को पिछले दिनों साँस लेने में तकलीफ के चलते सैन डिएगो के स्क्रिप्स मेमोरियल अस्पताल में भर्ती कराया गया था, और आज सुबह करीबन साढ़े चार बजे उनका निधन हो गया।

पंडित रविशंकर भारत के महान संगीतकार थे और भारतीय संगीत को पश्चिम में लोकप्रिय बनाने में उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की। पश्चिमी देशों में भी वो काफी लोकप्रिय थे।

7 अप्रैल 1920 को वाराणसी में पैदा हुए पंडित रविशंकर ने नृत्य के जरिए कला जगत में प्रवेश किया था, मगर 18 साल की उम्र में उन्होंने नृत्य छोड़कर सितार सीखना शुरू कर दिया। सितार के जादू से बँधे पंडित रविशंकर उस्ताद अलाउद्दीन खान से दीक्षा लेने मैहर पहुंचे और खुद को उनकी सेवा में समर्पित कर दिया।

Comments

Post a Comment

हार्दिक निवेदन। अगर आपको लगता है कि इस पोस्‍ट को किसी और के साथ सांझा किया जा सकता है, तो आप यह कदम अवश्‍य उठाएं। मैं आपका सदैव ऋणि रहूंगा। बहुत बहुत आभार।

Popular posts from this blog

महात्मा गांधी के एक श्लोक ''अहिंसा परमो धर्म'' ने देश नपुंसक बना दिया!

'XXX' से घातक है 'PPP'

यदि ऐसा है तो गुजरात में अब की बार भी कमल ही खिलेगा!

उड़ीसा का एक राजा, जो आज जीता फकीर सी जिन्‍दगी

विद्या बालन की 'द डर्टी पिक्‍चर'

किस तरह हंसते हो

movie review : संतोषी का अंदाज फटा पोस्‍टर निखरा शाहिद